You are here
Home > राजस्थान > पचास लाख रूपयें का काजू व सुपारी से भरा ट्रक प्रतापगढ़ से चोरी

पचास लाख रूपयें का काजू व सुपारी से भरा ट्रक प्रतापगढ़ से चोरी

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने दिये प्रकरण दर्ज करने के आदेश

प्रतापगढ़ । दिनांक 3 मई 2017 को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रतापगढ़ सुन्दरलाल बंशीवाल साहब ने काजू व सुपारी से भरे ट्रक के प्रतापगढ में सामान के चोरी हो जाने के मामले में पुलिस थाना प्रतापगढ़ को प्रकरण दर्ज करने का प्रदान किया हैं ।

प्रकरण की जानकारी देते हुए जगदीश प्रसाद के अधिवक्ता रमेशचन्द्र शर्मा ने बताया कि काजू व सुपारी से भरा हुआ करीब 50 लाख कीमत सामान का ट्रक नम्बर आर जे 19 जीए 3713 जो सिंग रोडवेज ट्रांसपोर्ट ऑफीस मैंगलोर कर्नाटक के मार्फत से चालान नम्बर 750-17328 से दिनांक 18.04. 2017 को जयपुर के लिये रवाना हुआ। यह ट्रक दिनांक 24.04. 2017 को जयपुर इण्डो आरिया सेन्ट्रल ट्रांसपोर्ट लिमिटेड जयपुर राज. पहुंचना था परन्तु ट्रक जयपुर नहीं पहुंचा । इस पर डिलेवरी मैनेजर जगदीश प्रसाद इण्डो आरिया ट्रांसपोर्ट लिमिटेड जयपुर ने ट्रक ड्राईवर उदयराम पिता धन्ना बन्जारा निवासी प्रतापपुरा थाना हथुनिया जिला प्रतापगढ़ के मोबाईल से सम्पर्क किया तो उसने बताया कि मेरे घर पर शादी हैं इस कारण मैंने ट्रक के मालिक रणविजयसिंह पिता राजेन्द्रसिंह राजपुत निवासी घोटारसी थाना हथुनिया को ट्रक सुपुर्द कर दिया हैं और वे दूसरे ड्राईवर के साथ ट्रक जयपुर भेजेगें । ट्रक मालिक रणविजय सिंह के मोबाईल से सम्पर्क किया तो मोबाईल स्वीच ऑफ आया । इस पर संदेह होने पर डिलेवरी मैनेजर जगदीश प्रसाद प्रतापगढ़ आये और उन्होनें ट्रक ड्राईवर से प्रतापपुरा जाकर सम्पर्क किया तो उसने बताया कि ट्रक 24.04.2017 को ही रणविजयसिंह को सुपूर्द कर दिया था रणविजयसिंह के गांव घोटारसी में तलाश की तो रणविजयसिंह घर से गायब था, बाद में डिलेवरी मैनेजर जगदीश प्रसाद द्वारा पुलिस थाना प्रतापगढ में इस घटना की रिपोर्ट दी एवं पुलिस अधीक्षक प्रतापगढ़ को भी परिवाद पेश किया परन्तु प्रकरण दर्ज नहीं होने पर प्रार्थी ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट साहब प्रतापगढ़ श्री सुन्दरलाल बंशीवाल के यहां अधिवक्ता रमेशचन्द्र शर्मा के जरिये परिवाद पेश किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए न्यायालय ने पुलिस थाना प्रतापगढ़ को प्रकरण पंजीबद्ध किये जाने के निर्देश प्रदान किये ।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top