You are here
Home > देश > रेलवे के इतिहास में पहली बार इकलौती सवारी को छोड़ने के लिए ट्रेन को 535 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी !

रेलवे के इतिहास में पहली बार इकलौती सवारी को छोड़ने के लिए ट्रेन को 535 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी !

रांची/झारखण्ड। रेलवे के इतिहास में यह पहली बार हुआ था जब इकलौती सवारी के लिए राजधानी एक्सप्रेस को 535 किलोमीटर की दूरी तय करना पड़ी। मामला यह था कि टाना भगतों के आंदोलन से डालटनगंज स्टेशन पर राजधानी एक्सप्रेस फंसी हुई थी। ट्रेन में 930 यात्री थे, 929 यात्री तो रेलवे डालटनगंज से बसों से गंतव्य की ओर जाने के लिए तैयार हो गए और निकल भी गये लेकिन मात्र एक सवारी अनन्या ने जिद पकड़ ली जाऊंगी तो राजधानी एक्सप्रेस से ही। यदि बस से जाना होता तो ट्रेन का टिकट क्यों लेती। बस से सफर कर रांची आती। टिकट राजधानी एक्सप्रेस का है तो इसी से जाऊंगी। अनन्या ने यह जिद पकड़ ली तो रेलवे अधिकारी भी परेशान हो गए। क्या करें, उन्हें समझ में नहीं आ रहा था। अंत में जिद के आगे उन्हें झुकना पड़ा। राजधानी एक्सप्रेस शाम करीब चार बजे डालटनगंज से वापस गया ले जाकर गोमो और बोकारो होते हुए रांची के लिए रवाना करनी पड़ी। रात करीब 1.45 बजे ट्रेन रांची रेलवे स्टेशन पहुंची।

डालटनगंज रेलवे स्टेशन के प्रबंधक अनिल कुमार तिवारी ने बताया कि वह मुगलसराय से रांची के लिए नई दिल्ली रांची स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस में सवार हुई थी। अनन्या ट्रेन की बी-3 कोच में सवार थी। 51 नंबर सीट पर बैठी थी। अनन्या रांची के एचइसी कालोनी की रहने वाली हैं। वह बीएचयू में एलएलबी की पढ़ाई करती हैं।

कार से भेजने की बात भी नहीं मानी

अनन्या ने कहा कि रेलवे अधिकारियों ने उनसे कहा कि वे उनके रांची जाने के लिए कार की व्यवस्था कर देंगे। लेकिन वह तैयार नहीं हुई। वह जिद पर अड़ी रही कि राजधानी एक्सप्रेस से ही रांची जाएगी। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को सारी बात बताई गई। विचार-विमर्श के बाद उन्होंने डीआरएम को निर्देश दिया कि अनन्या को राजधानी एक्सप्रेस से रांची भेजें। सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम हों।

535 किलोमीटर चली राजधानी एक्सप्रेस

ट्रेन को डालटनगंज से सीधे रांची आना था। डालटनगंज से रांची की दूरी 308 किलोमीटर है। मगर, ट्रेन को गया से गोमो व बोकारो होकर रांची रवाना करना पड़ा। इस तरह ट्रेन को 535 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी। अनन्या की सुरक्षा के लिए आरपीएफ की कई महिला सिपाही तैनात की गई थीं। रेलवे के एक वरीय अधिकारी के अनुसार, 25 वर्ष से वह रेलवे में कार्यरत हैं, लेकिन याद नहीं कि एक यात्री के लिए राजधानी ने 535 किलोमीटर की दूरी तय की।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top