You are here
Home > देश > सेन्ट्रल ग्राउण्ड वाटर ऑथोरिटी की अनुमति व ट्रीटमेंट प्लांट लगाने को लेकर जलशक्ति मंत्री से की मुलाकात

सेन्ट्रल ग्राउण्ड वाटर ऑथोरिटी की अनुमति व ट्रीटमेंट प्लांट लगाने को लेकर जलशक्ति मंत्री से की मुलाकात

नई दिल्ली/पाली । आज दिनांक 15.07.2019 को पी.पी. चौधरी, सांसद पाली, ज्ञानचन्द पारख विधायक-पाली, ओमप्रकाश मित्तल पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष लद्यु उद्योग भारती, शांतिलाल बालड़ अध्यक्ष जोधपुर अंचल, विनय बम्ब प्रदेश कार्यकारीणी सदस्य सहित उद्योगिक ईकाईयों के प्रतिनिधि दल ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री से की मुलाकात।

जलशक्ति मंत्री को जानकारी दी गई कि पाली जिले में डाईंग एवं प्रिन्टिंग सम्बन्धी कार्य से जुड़ी लगभग 900 से अधिक ईकाईया स्थापित है, जिन्हें पानी की आवश्यकता रहती है। माननीय राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देशानुसार इन उद्योगों में पानी के उपयोग हेतु सेन्ट्रल ग्राउण्ड वाटर ऑथोरिटी की अनुमति लेने का प्रावधान किया गया है। इस सम्बन्ध में 728 औद्योगिक ईकाईयों द्वारा पानी के प्रयोग हेतु आवेदन किया गया है, जिसमे से केवल मात्र 3 ईकाईयों को अभी तक अनुमति प्रदान की गई है, शेष 725 ईकाईयों को अनुमति में देरी कारण इन ईकाईयों का व्यवसाय प्रभावित हो रहा है।

चौधरी ने जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को जानकारी दी की राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा जारी आदेश में पाली को जल की दुष्टि से सुरक्षित श्रेणी से बाहर दर्शाए जाने के कारण पाली की टेक्सटाईल इन्डस्ट्रीयों को खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। जबकि मंत्रालय द्वारा पाली को जल की दृष्टि से सुरक्षित क्षेत्र माना जाता रहा है। चौधरी ने जल शक्ति मंत्री से प्राधिकरण को आगामी सुनवाई तिथि में सही आंकड़ों की जानकारी देते हुए आदेश पर पुर्नविचार करवाने का अनुरोध किया। इसी के साथ-साथ विशेष कैम्प लगाकर पाली की शेष 725 ईकाईयों को पानी के इस्तेमाल की अनुमति हेतु सेन्ट्रल ग्राउण्ड वाटर ऑथोरिटी के अधिकारियों को निर्देशित करने का भी अनुरोध किया।

इसके अतिरिक्त पूरे पश्चिमी राजस्थान में चलने वाली टेक्सटाईल ईकाईयों को पानी के पुर्नः अपयोग लेने वाली तकनकी का प्लांट लगाने पर अनुदान दिलवाने का भी अनुरोध किया गया। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री ने यह भी बताया गया कि बालोतरा क्षेत्र स्लाईन जोन है अतः केन्द्रीय भूजल प्राधिकरण की गाईडलाईन के अनुसार एन.ओ.सी.जारी की जा सकती है। इस सम्बन्ध में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री ने सम्बन्धित अधिकारियों को त्वरित कार्यवाही करने के साथ-साथ जोधपुर, पाली व बालोतरा में कैम्प लगाकर पैंडिग फाईलों का निपटान करने के निर्देश दिये।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top