You are here
Home > राज्य और शहर > रतलामः दो पक्षों में खूनी संघर्ष, एक परिवार के 3 लोगों की मौत

रतलामः दो पक्षों में खूनी संघर्ष, एक परिवार के 3 लोगों की मौत

रतलाम। लॉकडाउन के खुलते से ही प्रदेश में क्राईम रेट बढ़ने लगा है। एक के बाद एक प्रदेश में हत्याओं, गोली चलने एवं खूनी संघर्ष के मामले सामने आने लगे है। रतलाम के रावटी क्षैत्र के ग्राम गुंदीपाड़ा में जमीन विवाद में हुए खूनी संघर्ष में शुक्रवार को एक ही परिवार के तीन लोगो की मौत हो गई जबकि पूर्व सरपंच गंभीर घायल हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही भारी संख्या में पुलिस बल की पहुंच गया था। घटना के बाद क्षैत्र में तनाव का माहौल है।

जानकारी के मुताबिक ग्राम नायन के पूर्व सरपंच मोहनलाल कटारा की पास के ग्राम गुंदीपाड़ा स्थित 4 बीघा पट्टे की जमीन का गांव के ही राधू भाबर नाम के व्यक्ति से विवाद चल रहा था। करीब 15 दिन पूर्व ही जमीन की नपती राजस्व विभाग ने की थी । विवाद खत्म नही होने पर शुक्रवार को फिर से जमीन का सीमाकंन चल रहा था। मोहन के चचेरे भाई सुर्यपाल कटारा ने बताया इस दौरान पटवारी पूजा कसेरा के साथ पुलिसकर्मी शिवनाथसिंह एवं आरक्षक संगीता गामड़ भी मौजूद थे। नपती के बाद मौके पर अधिकारियों ने जमीन को सरकारी बताया । इस दौरान ही दोनो पक्षो में फिर से विवाद हो गया। राधु के पक्ष के करीब 60 लोग जबकि मोहन कटारा के करीब 20 लोग मौके पर मौजूद थे।

सरपंच के पुत्र व दो भतीजों की हुई मौत

अचानक हुए विवाद में दूसरे पक्ष के लोगो ने तलवार , लाठियों एवं पत्थरो से हमला कर दिया। अचानक हुए हमले के बाद पूर्व सरपंच मोहन कटारा पक्ष के लोग भागने लगे। पीछा करते हुए राधू भगोरा पक्ष के लोगो ने करीब एक किलोमीटर दूर छापरिया गांव के पास पूर्व सरपंच के पुत्र सहित उसके भाई के दो लड़को को तलवार मार दी । इससें शंकर कटारा पिता मोहनलाल कटारा उम्र 20 वर्ष ग्राम नायन, मदन कटारा, पिता नागु कटारा उम्र 35 वर्ष ग्राम नायन, गुलाब सिंह कटारा, पिता बाबू कटारा उम्र 28 वर्ष ग्राम नायन इन तीनों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं पूर्व सरंपच मोहनलाल कटारा, पिता हूर जी कटारा, उम्र 42 गंभीर घायल हो गए, जिन्हे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। घटना के बाद ग्राम में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती गई है।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top