You are here
Home > राज्य और शहर > बारिश का कहर : शिवना उफान पर पशुपतिनाथ के चार मुख डूबे, नर्मदा खतरे के निशान से तीन फीट ऊपर, ओंकारेश्वर बांध के 10 गेट खोले गए, शिप्रा भी उफनी

बारिश का कहर : शिवना उफान पर पशुपतिनाथ के चार मुख डूबे, नर्मदा खतरे के निशान से तीन फीट ऊपर, ओंकारेश्वर बांध के 10 गेट खोले गए, शिप्रा भी उफनी

मंदसौर/इंदौर/उज्जैन/खंडवा। शनिवार की दोपहर से मंदसौर तथा आसपास के क्षेत्रों में शुरू हुई बारिश से आज रविवार की सुबह से शिवना नदी उफान पर थी वहीं दोपहर 3 बजे शिवना नदी ने भगवान पशुपतिनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश किया और 4 बजे के लगभग पशुपतिनाथ के चारों मुख डूब गए।

वहीं मालवा-निमाड़ सहित प्रदेशभर में लगातार हो रही बारिश से नर्मदा और शिप्रा दोनों ही नदियां उफान पर हैं। नर्मदा जहां खतरे के निशान से तीन फीट ऊपर बह रही है। वहीं, उज्जैन स्थित शिप्रा का बड़ा पुल सहित निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं। सिद्धवट घाट स्थित मंदिर भी पानी-पानी हो चुका है। नर्मदा के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए नर्मदा नदी पर बने ओंकारेश्वर बांध के 10 गेट खोल दिए गए हैं। बांध के पानी को लेवल में रखने के लिए 4 हजार क्यूमेक्स पानी छोड़ा जा रहा है। वहीं, नर्मदा किनारे के सभी घाटों पर अलर्ट जारी कर दिया गया।

सिद्धवट घाट स्थित मंदिर पूरी तरह से डूब चुके हैं।

बारिश के चलते तवा और बर्घी बांध के गेट भी खोल दिए गए हैं। इससे नेमावर में शनिवार को शाम 6 बजे तक नर्मदा खतरे के निशान 885 से चार फीट ऊपर 889 पर बह रही थी। प्रशासन ने एहतियातन नगर की निचली बस्तियों को खाली करवाकर लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाया। इधर नर्मदा में लगातार बढ़ रहे जलस्तर के कारण किनारे बसे गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है।

ओंकारेश्वर बांध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है।

नगर परिषद नेमावर के सीएमओ हरिओम कचोले एवं खातेगांव तहसीलदार राधा महंत नगर की निचली बस्तियों में जाकर लोगों के मकान खाली करवाकर उन्हें शासकीय स्कूलों में बनाए गए राहत शिविरों में पहुंचाने में जुट रहे। सीएमओ कचोले ने बताया निचली बस्ती हनुमान टेकरा और नर्मदा किनारे बसे लोगों का सामान शिविरों तक पहुंचाने के लिए ट्रैक्टर-ट्रॉलियां सहित अन्य वाहनों लगाए गए। शिविरों में भोजन की व्यवस्था भी की गई। थाना प्रभारी नीता देहरवाल ने बताया सुरक्षा की दृष्टि से निचली बस्तियों व अन्य जगह नाले-रपट व पुल के समीप सुरक्षा उपकरणों से लैस पुलिस के तैराकों को तैनात कर दिया गया है। नावों का भी अधिग्रहण कर लिया गया है।

नर्मदा का जलस्तर बढ़ने से लगातार घाट डूबते जा रहे हैं।

नर्मदा किनारे बसे गांवों का नेमावर से संपर्क कटा, सिद्धनाथ-नागर घाट भी जलमग्न

इधर, नर्मदा का पानी नाले पर बनी रपट पर आने से नेमावर के पश्चिम किनारे बसे गांव निमनपुर, नवाड़ा, बजवाड़ा, सुरजना, दावठा, मंडलेश्वर, धरमपुरी आदि गांवों का नेमावर से संपर्क पूरी तरह से कट गया है। इसी तरह नर्मदा के पूर्व की और बसे गांव कुंडगांवखुर्द, कुंडगांवबुजुर्ग, मुरझाल, दैयत, चिचली, बिजलगांव का संपर्क भी नगर से कट गया। नगर के वार्ड क्रमांक 14 एवं 15 में नर्मदा का बैकवाटर घुसने से नगर से संपर्क कट गया। इधर, नर्मदा के मुख्य स्नान वाले सिद्धनाथ व नागर घाट भी जलमग्न हो गए है।

शिप्रा भी उफान पर, चारों ओर बस पानी ही पानी

उज्जैन में लगातार पिछले 24 घंटे से हो रही बारिश के बाद पूरा जिला पानी-पानी दिखाई दे रहा है। शहर में पिछले 24 घंटे में 7 इंच से अधिक बारिश हो चुकी है। शहर के रामघाट सहित सिद्धवट घाट, केडी पैलेस, गणगौर दरवाजा, एकता नगर, शांति नगर सहित कई इलाके बारिश के पानी में डूबे हुए हैं। उज्जैन और आसपास के इलाकों में तेज बारिश के बाद शिप्रा नदी का रौद्र रूप रविवार को भी बना हुआ है। शिप्रा नदी के ऊपर बने बड़े पुल पर से करीब 2 फीट ऊपर पानी लगातार बह रहा है।

मौसम विभाग की माने तो उज्जैन जिले में अभी भी तेज बारिश की संभावना है। लगातार हो रही बारिश ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। उज्जैन के शिप्रा नदी किनारे गणगौर दरवाजे स्थित कई बड़े और छोटे यात्री निवासों में 6 से 8 फीट तक पानी भरा चुका है। जहां से तकरीबन 20 परिवारों को प्रशासन ने सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। वहीं, उज्जैन के प्रसिद्ध सिद्धवट घाट स्थित मंदिरों में भी पानी-पानी ही दिखाई दिया। इसके अलावा केडी पैलेस पर भी शिप्रा नदी का रौद्र रूप देखने को मिल रहा है।

Sharing is caring!

Similar Articles

Leave a Reply

Top